Advanced Grammar for Spoken English

Available on Namaste English app | Teaching medium : English | हिन्दी
About the course
इसमें कोई दो राय नहीं है कि इंग्लिश भाषा दुनिया भर की एक प्रमुख भाषा बन गई है। चूंकि यह business और educational दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है, इसलिए जरूरी है कि अंग्रेजी भाषा को एक प्रभावी communication skill की तरह विकसित किया जाए। अब तक आप बिना अधिक कठिनाई के इंग्लिश में थोड़ा बहुत बात कर सकते हैं, इंग्लिश समझ सकते हैं और अपने आप को सरल शब्दों में समझा भी सकते हैं। पर अब बात सिर्फ अच्छी इंग्लिश बोलने की नहीं हैं। आपके सामने चुनौती है अपनी इंग्लिश को एक कदम आगे बढ़ाकर अच्छे से बहुत अच्छा करने की। इस course में आप सिर्फ grammar के rules ही नहीं सीखेंगे बल्कि उनका practical use भी सीखेंगे। जानेंगे कैसे और कब tenses, direct indirect speech, voice, gerunds इत्यादि का प्रयोग करेंगे।
Demo video class
Key benefits of course
Grammar को समझकर बिना हिचकिचाहट वाक्य बना पाएंगे
Gerund और Infinitives के बीच का अंतर जानेंगे
Narration, Voice और Tense के बारे में जानेंगे
Conditional sentences, modal verbs का use सीखें
आपकी Spoken English "अच्छे" से "बहुत अच्छी" होगी
यह course Competitive Exams में भी helpful रहेगा
Know your instructor
Ishita Siddhartha
English Instructor
आपके इस Live course session की instructor Ishita Siddhartha हैं। Ishita madam एक well qualified expert trainer है। वे पिछले लगभग 7 वर्षों से इस क्षेत्र में काम कर रही हैं। उन्होंने कई IT companies, International Banks में और कई Government Skill Development projects पर काम किया है। वे एक certified Training and development manager हैं और कई वर्षों से English communication, Grammar, Soft skills जैसे अन्य कई topics पर training दे रही है। इनका मूल सिद्धांत है - Knowledge increases by spreading it.
Need more help?
Email us, call or WhatsApp
support@hinkhoj.com
8448483122
8448483122
Course Schedule
Day 1 - Mixed Present Tenses
72:44 Minutes
English tenses, वक्ता को language में time express करने में help करता है। यह verbal और Written English दोनों के लिए ही एक बहुत ही important tool है। इसलिए जरूरी है कि हमें अपनी communication को बेहतर बनाने के लिए tenses के बारे में जानना चाहिए। वर्तमान काल, जिसे English में Present Tense कहा जाता है, अपनी रोजमर्रा के कामों को बताने के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण है, या ऐसी घटना जो सदैव सत्य हो या फिर जो कार्य अभी चल रहा हो। संक्षेप में जब आपको बात करना हो RIGHT NOW (अभी) के बारे में, तब आप उसे करेंगे Present tense का। Spoken English में वाक्य तब ही सही बोला जा सकता है, जब हमें tenses की जानकारी हो। आप सभी को इनके बारे में जानकारी भी होगी पर इस class में हम जानेंगे - --> The Simple Present vs Present Progressive Tenses --> The Present Perfect and The Present Perfect Progressive Tenses जिससे आप सही समय पर सही present tense का प्रयोग कर अपनी भाषा को और impressive बना सकें।
Day 2 - Mixed Past Tenses
72:3 Minutes
हमारी daily conversations के दौरान, विशेषकर यदि वे informal हैं, तो हम Past Tense का बहुत अधिक प्रयोग करते हैं। अगर आप Past tense के सभी parts (simple Past, Past continuous, Past perfect और Past perfect continuous) से परिचित हैं पर बोलते समय इनका सही जगह पर प्रयोग नहीं कर पाएं तो आप अपनी प्रमाणिकता खो सकते हैं। इसलिए इनके बीच का अंतर और इनका सही प्रयोग जानना आवश्यक है ताकि आप बात की relevance और appeal ना खोएं। आज के session में आप सीखेंगे - --> Overview of Past Tenses Introduction --> The Simple Past Tense vs. the Present Perfect Tense vs. the Past Perfect --> The Past Progressive and Past Perfect Progressive Tenses
Day 3 - Mixed Future Tenses
65:14 Minutes
ऐसी सभी घटनाएं, जो अभी नहीं हुई है, भविष्य (future) का part है। हो सकता है वह घटना एक सेकंड, एक घंटे, एक दिन, एक महीने या एक साल बाद हो। घटना कब होगी यह अनुमान लगाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है पर इसके बारे में बात करना नहीं। सही tense का प्रयोग करना अतिआवश्यक है क्योंकि यह घटना के समय को बताती है। गलत tense का प्रयोग करने पर वाक्य का अर्हत भी बदल जाता है। इसलिए आज का session इसी पर आधारित है कि किस तरह से future prediction और planning को व्यक्त करें। आज हम जानेंगे - --> Introduction to the Future and the Future Planning System --> The Future Progressive --> The Future Perfect and The Future Perfect Progressive Tenses
Day 4 - Reported Speech (Part 1)
65:12 Minutes
हमें अक्सर जरूरत पड़ती है यह बताने की कि किसी अन्य व्यक्ति ने क्या कहा। English में यह बताने के दो तरीके है - एक जैसा उस व्यक्ति ने कहा है - हूबहू वैसा ही बताना - जिसे Direct Speech कहते हैं और दूसरा तरीका है उनके कहे हुए शब्दों को अपने शब्दों में कहना जिसमें tenses, pronouns, punctuation marks इत्यादि को बदल दिया जाता है और इसे Indirect speech कहते हैं। सामान्यतः लिखते समय किसी के कहे हुए शब्दों के सार को बरकरार रखने के लिए Direct speech का प्रयोग करते हैं। (आसान शब्दों में उन्हें inverted commas में ज्यों का त्यों लिखते हैं) उसी तरह जब आप अपने daily life में बातचीत करते हैं तो अधिक स्पष्टता (clarity) लाने के लिए उनके कहे हुए वाक्यों को अपने शब्दों में कहते हैं। इसलिए Spoken English में Direct - Indirect speech को सही तरह से use करना जानना अतिआवश्यक है। आज के session में हम जानेंगे --> Introduction of Direct - Indirect speech --> Rules of changing pronouns
Day 5 - Reported Speech (Part 2)
64:16 Minutes
जब हम बातचीत में Indirect speech का प्रयोग करते हैं तो tenses के अतिरिक्त pronoun (सर्वनाम) को वक्ता के अनुसार बदलते हैं। इसका सही ज्ञान ना होने से वाक्य में गलतियां हो सकती है। इसलिए आज का पूरा session इसी पर आधारित हैं। आज की class में हम सीखेंगे - --> Rules of changing tenses --> Practice of changing pronouns and tenses यह topic न केवल आपकी Spoken English को बेहतर करेंगे अपितु competitive exams की दृष्टि से भी बहुत महत्त्वपूर्ण हैं। इसी के साथ यह थोड़ा difficult भी हैं जिसे हमारे instructor, Practice के माध्यम से आसान तरीके से समझाएंगे।
Day 6 - Reported Speech (Part 3)
82:38 Minutes
लोगों की एक अवधारणा है कि जब भी English में हम बोलते समय या लिखते समय किसी अन्य व्यक्ति की बात को होने शब्दों में कहते हैं तो conjunction के रूप में THAT का प्रयोग करते हैं। यह एकदम गलत हैं। अगर आप अपनी Spoken और Written English को बेहतर बनाना चाहते हैं तो ध्यान रखिये कि THAT का प्रयोग हर जगह नहीं हो सकता। यह depend होता है type of sentence पर जो किसी अन्य व्यक्ति ने कहे हैं। इसके अलावा कुछ अन्य शब्द भी है जिन्हे हम बदलते हैं। तो आज के session में जानते हैं - --> Rules of changing different types of sentences --> Rules of changing special words --> Practice session
Day 7 - Active Passive voice - 1
76:45 Minutes
जब हम किसी से बात करते हैं तो active voice का प्रयोग करते हैं। Active voice का अर्थ हैं कि वाक्य में कर्ता द्वारा कार्य किया गया है या किया जा रहा हैं। इसमें पूरा focus जिसने काम किया, उस पर होता है। इसे आप एक example के माध्यम से समझिए - I cleaned the room. (मैंने कमरा साफ किया।) या active voice है जिसमें I (मैंने) कार्य कर रहा है। इस वाक्य में पूरा focus I पर है। अब मान लीजिए आपको जिस पर कार्य किए गया है, उस पर ध्यान केंत्रित करना है तो उस स्थिति में Passive voice का प्रयोग होगा - The room was cleaned by me. (कमरा मेरे द्वारा साफ किया गया।) इसमें subject पर कार्य किया जाता है। बोलचाल की भाषा में इसका प्रयोग कम है पर इसे जानना उतना ही आवश्यक है जितना अन्य topics . आज के session में हम जानेंगे - --> Use of Passive voice with some practical examples --> Rules of changing tenses
Day 8 - Active Passive voice - 2
72:9 Minutes
Competitive exams की दृष्टि से यह एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण topic है। आज की class का focus होगा - --> Rules of changing different types of sentences in passive voice --> Practice session
Day 9 - Clauses & Phrases
63:6 Minutes
जरूरी तो नहीं आप हमेशा simple वाक्य हो बोले जिसमें सिर्फ़ एक subject, verb और object हो। कभी कभी एक कार्य दूसरे कार्य पर निर्भर रहता है। बोलते समय बहुत बार ऐसे वाक्यों का प्रयोग होता है और उन्हें ही clauses कहा जाता है। जानिये किस तरह से आप उनका प्रयोग करेंगे जब भी आप कोई नयी भाषा सीखते हैं तो उस भाषा में प्रयोग हुए phrases को जानना चाहिए। पर phrases होते क्या हैं? Phrases एक तरह के छोटे वाक्य है जिनमें subject verb या object हो, जरूरी नहीं हैं। अपनी daily life में हम इनका प्रयोग बहुत करते हैं। जैसे once upon a time" एक बार की बात है या "Fisrt of all" सबसे पहले. आज के इस session में हम जानेंगे - --> Clauses और phrases के बीच का अंतर (phrases को इस session में हम बहुत detail में नहीं पढ़ेंगे) --> Independent और subordinate clauses --> Noun clause, Adjective clause और Adverb Clause (a brief introduction)
Day 10 - Conditional Sentences - 1
87:19 Minutes
English में कुछ ऐसी वाक्य संरचनाएं है जो आपको आपके विचारों को सरलता से व्यक्त करने में सहायक है और साथ ही आप बातचीत करते समय अधिक confident महसूस करेंगे। उन्हीं संरंचनाओं में से एक है Conditional sentences. यह वाक्य संरचना, शब्दों का एक विशिष्ट क्रम है जिसे native speakers बहुत अधिक उपयोग में लेते हैं। इन्हें tense के साथ mix करने की गलती न करें। ये एक तरह से if clause होते हैं। आसान शब्दों में अगर ऐसा होता तो वैसा होता या वैसा करते। ऐसे वाक्यों को प्रयोग आये दिन हम अपनी बातचीत में करते हैं। इनमें गलती न हो और आप त्रुटिपूर्ण English बोले, इसलिए इस session में हम जानेंगे - --> Introduction of Conditional sentences --> THE ZERO CONDITIONAL --> TYPE 1 CONDITIONAL
Day 11 - Conditional Sentences - 2
86:22 Minutes
Conditional Sentences सामान्यतः imaginary (काल्पनिक) परिस्थितियों को व्यक्त करते हैं। ये imaginary situations - past, present और future की हो सकती है। अपने पिछले session को आगे बढ़ाते हुए हम आज की class में सीखेंगे - --> TYPE 2 CONDITIONAL --> TYPE 3 CONDITIONAL --> MIXED TYPE CONDITIONAL --> Practice session
Day 12 - Gerund & Infinitives
82:44 Minutes
कितनी बार होता है कि बोलते समय हम छोटी छोटी ग़लतियाँ कर देते हैं। लिखते समय भी हम इन्हीं ग़लतियों को दोहराते हैं। जैसे I like read. बोले या I like to read. या फिर I like reading. सही है या I like to reading.? इस तरह के questions बहुत बार हमारे दिमाग में आते है कि क्या सही शब्द है। इसी कारण बोलते समय भी इस तरह के शब्दों को प्रयोग करते समय थोड़ा हिचकिचाते हैं और अटकते भी हैं। Gerunds देखने में क्रिया की तरह ही लगते हैं पर यह एक संज्ञा की तरह काम करते हैं। जबकि Infinitives क्रिया की base form होती है जो to के साथ प्रयोग होती हैं। आज के इस session में हम अपने इसी confusion के दूर करेंगे और जानेंगे - --> Gerund और Infinitives के बीच का अंतर --> इनका सही प्रयोग --> वाक्य ने उनकी पहचान करना बोलते समय इन बातों का ध्यान नहीं रखने पर हमारी इंग्लिश उतनी अच्छी नहीं हो पाती। बोलते समय ही नहीं, लिखते समय भी इसका ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक है। इतना ही नहीं इस topic को कई exams में एक विशेष स्थान भी दिया गया हैं।
Day 13 - Modal verbs
95:27 Minutes
Modals ऐसी सहायक क्रियाएँ होती हैं जिनका प्रयोग वाक्य में मुख्य क्रिया के साथ किया जाता है ताकि किये जाने वाले कार्य की समर्थता, सम्भावना, निश्चितता, इजाज़त और आवश्यकता व्यक्त की जा सके। इस class में हम कुछ common modal verbs और उनके usages सीखेंगे। Modal verbs हमारे mood को दर्शाते हैं - necessity और possibility को व्यक्त करते हैं। इनका सही ज्ञान होना इसलिए भी जरूरी है कि आप क्या कहना चाहते हैं, यह स्पष्ट हो। ये सभी आपकी English को effective बनाते हैं और साथ ही साथ competitive exams में इनसे related बहुत से questions पूछे जाते हैं। Modal verbs का use हम अपनी daily conversation में करते हैं। आज की class में सीखेंगे - --> Modals of Necessity, Obligation, and Expectation --> Modals of Advice, Suggestions, and Non-obligation --> Modals of Certainty (Possibility), Ability, Willingness, and Requests --> The Past Progressive Modal Tense
Day 14 - Question tags
97:52 Minutes
प्रश्न पूछना हमारी बातचीत का एक महत्त्वपूर्ण भाग है। Spoken English में इसका एक विशेष स्थान है। इसके बिना आपकी बातचीत अधूरी है। Wh words के बारे में हम सभी जानते हैं पर कभी कभी हमें अपने प्रश्नों को बहुत छोटा रखना होता है। Question tags हमारी daily communication का एक important part है और बहुत अलग अलग तरह के कार्य करता है। जैसे इनका प्रयोग बातचीत को शुरू करने या बातचीत को चालु रखने के लिए किया जाता है, ये order को अधिक नम्र बनाते हैं और information प्राप्त करने का एक बहुत ही polite तरीका है। आज के session में Wh - words को revise करने के साथ साथ हमारा main focus होगा Question tags पर। --> Types of questions/ Introduction of Wh words --> Uses of question tags --> Rules & Practice session
Day 15 - Figure of Speech
85:50 Minutes
Figures of speech Spoken English का एक important part है। इसे अपने daily communication में अपना कर अपनी भाषा को और अधिक प्रभावशाली बना सकते हैं। Figures of speech एक ही शब्द के विभिन्न अर्थों को, उनके बीच के अंतर दर्शाता हैं और एक accurate description देता है। आज के session में हम कुछ Figures of speech को संक्षिप्त में जानेंगे और सीखेंगे की किस तरह उनका प्रयोग बोलने में किया जाए। --> Introduction of figure of speech, importance in spoken english --> simile, metaphor, pun, personification, hyperbole, understatement, paradox and oxymoron with practical examples
What our users say
Other courses we offer