Silent Letters: Why so important?


SILENT LETTERS: they are there to confuse you...OR maybe not Let’s find out English language में बहुत से ऐसे words हैं जिनकी spelling में कुछ ऐसे letters मौजूद होते हैं जिनका use इन words की pronunciation में नहीं किया जाता, और इन्हे ही हम silent letters कहते हैं। Example: Knife, Gnaw, Sign, Debt It is believed that these silent letters cause difficulties for both native speakers and English learners because they make the spelling of words different from their pronunciation. Well, it’s true but to an extent. क्या आपने कभी सोचा है की आखिर ये silent words आए कहाँ से और कुछ English words की spellings में इनका use क्यों किया जाता है? आइये आज हम जानते हैं कि English language में silent letters का महत्त्व क्या है और इन्हे समझना व इनका इस्तेमाल करना हमारे लिए कितना आवश्यक है USES OF SILENT LETTERS To distinguish between homophones जिन शब्दों का pronunciation यानि उच्चारण एक जैसा हो परन्तु उनके अर्थ में अंतर हो, उन्हें homophones कहा जाता है। एक जैसी pronunciation होने के कारण अक्सर कर देते हैं क्योंकि सिर्फ बोल कर आप इनके बीच के difference को न तो समझ सकते हैं और न ही समझा सकते हैं। That’s why we have to use silent letters in their spellings. Hence, silent letters play a crucial role when it comes to understanding the homophones. Let’s see a few examples: NO - KNOW Here, both the words have same pronunciation which is - नो अगर लिखते समय silent letters K and W का use न किया जाए तो No (यानी नहीं) और Know (यानी जानना) के different meanings को समझ पाना impossible है। RITE - WRITE Just like the above example, Rite and Write can be differentiated only with the help of their spellings that is, by adding a silent letter. किसी भी सामाजिक रीति या रिवाज़ को ‘Rite’ कहा जाता है जबकि ‘Write’ का अर्थ होता है लिखना। यदि यहाँ WRITE की spelling में silent letter - W का प्रयोग न किया जाए तो Rite और Write दो अलग नहीं बल्कि एक ही शब्द बन कर रह जाएंगे। Once again, silence to the rescue! To understand pronunciation सिर्फ लिखित ही नहीं, silent letters की मदद से दो शब्दों के बीच के pronunciation differences को भी दर्शाया जा सकता है। Let’s understand with examples: FIN - FINE FINE शब्द के अंत में silent letter - E की मदद से हम Fin (फिन) और Fine (फाइन) के pronunciation difference को इनकी different spellings के through बता सकते हैं। Thus, the silent E plays an important role here. SIN - SIGN Here also, adding silent letter G in the word SIGN (संकेत या इशारा ) changes it pronunciation completely from the word SIN (पाप या अपराध ) Sign = साइन Sin = सिन Clearly, silent letters can change the pronunciation of words, even though they are silent! How ironical? The etymology angle As we all know, every language is an amalgamation of different languages and English is no exception. English language में silent letters इसलिए use किए जाते हैं क्योंकि अक्सर शब्दों की spelling उनकी मूल भाषा, यानि जिस भाषा से लेकर उन्हें अपनी भाषा में इस्तेमाल के लिए modify किया गया है, से मिलती जुलती होती है। यही कारण है की English language में silent letters pronounce नहीं परन्तु use ज़रूर किए जाते हैं, ताकि शब्द के मूल को बरकरार रखा जा सके। For example: Tsunami (सुनामी)- from Japanese Psychology (साइकोलॉजी) - from Greek Knight (नाइट) - From German In short, यदि आपको किसी शब्द की etymology यानि यह जानना की उस शब्द की उत्पत्ति (origination) किस भाषा से हुई है, तो इसमें silent letters आपकी बहुत सहायता कर सकते हैं। I hope that our reader’s misconception about the silents letters’ uselessness might have changed. Don’t forget to read our other blogs: Hard to Pronounce English Words Pronounce Foreign Language Phrases LIKE A PRO Oftenly Mispronounced English Words Don’t miss out on daily Vocabulary tips on our app: HinKhoj

Explore Namaste English



Advertisements

Learn English